रहमत है तेरी जो

मेरी ज़िन्दगी की कलम

किसी ग़ैर के शब्दों

की मोहताज नहीं

 

Rehmat hai teri jo

Meri zindagi ki kalam

Kisi gair ke shabdon

Ki mohtaaj nahi

A.K