ख़ामोशी का इस क़दर रुक्सत होना

किसने की मेरी सिफ़ारिश थी

ज़हन में उस सैलाब का उठना

शायद मेरी ही गुजारिश थी

बेज़ुबान लफ़्ज़ों का यूं पन्नों पर बिखरना

मेरी रूह की नुमाइश थी

ज़ार ज़ार कर गया इस दिल को वो लम्हा

मगर या ख़ुदा

क्या हसीन तेरी आज़माइश थी

Khaamoshi ka is qadar ruksat hona

Kisne ki meri sifaarish thi

Zahan mein us sailaab ka uthna

Shaayad meri hi guzaarish thi

Bezubaan lafzo ka yup panno par bikharna

Meri rooh ki numaaish thi

Zaar zaar kar gaya is dil ko wo lamha

Magar ya khuda

Kya haseen teri aazmaish thi

-A.K-