भीड़ में तनहाई भी नसीब से मिलती है

ज़िद की गहराई भी कभी ही दिखती है

डर से सहमे दिल को कौन समझाए

क्या पता कब मेरे वजूद को कौन अधूरा कर जाए

Bheed mein tanhai bhi naseeb se milti hai

Zid ki gehrai bhi kabhi hi dikhti hai

Darr se sehme dil ko kaun samjhaaye

Kya pata kab mere wajood ko kaun adhoora kar jaaye

-A.K-