मुसीबतों से उबरने की चाह बेमानी लगती है अब
पर तसल्ली भी है की कोई तो साथ रहता है मेरे !

 

Musibatoon se ubarne ki chah bemani lagti hai ab

Par tasalli bhi hai ki koi to sath rahta hai mere !