ख्वाहिशों के सहारे देखता था मैं आसमां को कभी

पर अब वे आँसू बन गिरते हैं ज़मीन पे यहीं कहीं

Khwahishon ke sahaare dekhta tha main aasman ko kabhi

Par ab we aansu ban girte hain zameen pe yahin kahin