अपनी ग़म की आँधी में नादां इतना भी न भूल

तेरे सिवा दुनिया में ग़मगीन कई और भी हैं

ज़िन्दगी के हर लम्हे में, ए खुदगर्ज़ दूर कहीं ना कहीं

तेरी लाचारी से ज्यादा लाचार कई और भी हैं

Apni gham ki aandhi mein naadan itna bhi na bhool

Tere siva duniya mein ghamgeen kaee aur bhi hain

Zindagi ke har lamhe mein, ae khudgarz door kahin na kahin

Teri laachaari se zyaada laachaar kaee aur bhi hain

-A.K-