जाने से कौन रोकता है, जनाब

आप खड़े तो इस दार पर

दरख़ास्त आप से सिर्फ़ इतनी है

शाम ढले लौट आइयेगा

मेरे दिल का बोझ ग़र नहीं संभला

तो वापस आ लौटा जाइयेगा

Jaane se kaun rokta hai, janaab

Aap khade to iss daar par

Darkhaast aap se sirf itni hai

Sham dhale laut aaiyega

Mere dil ka bojh gar nahi sambhla

To bas waapas aa lauta jaaiyega

-A.K-