उनकी बूढ़ी बेबस नज़रें

ढूँढती रहीं एक जवान कंधे को

जो झुके और थके हैं कहीं

अपने ही अरमानों के बोझ तले

Unki boodhi bebas nazrein

Dhoondhti rahi ek jawaan kandhe ko

Jo jhuke aur thake hain kahin

Apne hi armaano ke bojh tale