जानते नहीं थे ज़िन्दगी के ज़ख्मों का

कुछ यूं मतलब भी निकलेगा

उसने हमें कलम थामने का मौका दिया

हम ने आज़माइश समझ कर मुह फ़ेर लिया

Jaante nahi the zindagi ke zakhmo ka

Kuch yu matlab bhi niklega

Usne humein kalam thaamne ka mauka diya

Hum ne aazmaaish samajh kar muh fer liya

-A.K-